288d87

कैसे करे प्रेगनेंसी में सेक्स?

प्रेग्नेंसी में हुए हार्मोनल बदलाव के कारण महिलाओ के सेक्स को लेकर भी अलग अलग अनुभव होते हैं। किसी महिला का मन सेक्स से उचट जाता है और किसी को सामान्य दिनों की अपेक्षा ज्यादा मन करने लगता है। कई बार मन ना करने पर भी पाटर्नर की भावनाओ का सम्मान करते हुए इसके लिए तैयार होना पड़ता है। ऐसे में एक गम्भीर प्रश्न जो महिला के मन मे उठता है वो ये की क्या ये मेरे शिशु के लिए खतरनाक होगा। केवल माँ ही नही पिता भी इसी असमंजस में होता है कि पेट मे पल रहे शिशु को इससे कोई ख़तरा तो नही होगा। आप के इन्ही सवालों के जवाब इसी लेख में देते है।

प्रेग्नेंसी में सेक्स सुरक्षित है कि नही?

विशेषज्ञ कहते है कि अगर माँ को प्रेग्नेंसी से सम्बंधित कोई दिक्कत नही है तो सेक्स किया जा सकता है। कई बार लोग सोचते है कि बच्चे को तो नुकसान नही होगा। तो निश्चिंत रहिए बच्चा गर्भाशय में बिल्कुल सुरक्षित रहता है। आप कितनी भी बार सेक्स का आनंद ले सकते है लेकिन सावधानी के साथ।

कब नही करना चाहिए प्रेग्नेंसी में सेक्स?

आप प्रेग्नेंसी में सेक्स करने के तरीका कितना भी सेफ ढूंढ ले लेकिन फिर भी कुछ स्थितियां होती है जिनमे सेक्स नही करना चाहिए। वह परिस्थितिया निम्न है।

ये भी पढ़े:  गर्भनिरोधक आयुर्वेदिक उपाय ayurvedic garbh nirodhak upay




  • अगर आपको पहली प्रेग्नेंसी में एबॉर्शन हुआ हो, या अब डॉक्टर ने एबॉर्शन का खतरा बताया हो तो ऐसे में सेक्स करने से बचे।
  • अगर पहली प्रेग्नेंसी में प्रिमैच्योर डिलीवरी हुई हो तो डॉक्टर से पूरी तरह जांच करवाकर ही सेक्स के बारे में सोचें।
  • अगर आपको प्लेसेंटा प्रिविआ जैसी कोई दिक्कत रही हो या वर्तमान में हो तो प्रेग्नेंसी में सेक्स नही करना चाहिए।
  • कई बार सर्विक्स समय से पहले खुलने लगती है जिससे हर समय यही लगता है कि बच्चा नीचे आ गया है।

ऐसे में सेक्स से बचे।





  • अगर जांच के नतीजों में यूटेराइन मेम्ब्रेन में छेद आया हो और एमनीओटिक फ्लूइड लीक कर रहा हो तो भुलकर भी सेक्स ना करे।
  • अगर आपको या आपके पार्टनर को सेक्सुअल ट्रांसमिटेड डिजीज जैसे एच आई वी/एड्स, गोनोरिया, हर्पिस हो तो बिल्कुल भी सेक्स न करे।
  • अगर सेक्स के बाद असहज महसूस होता है, दर्द होता है, यूटेराइन कॉन्ट्रेक्शन बढ़ जाता हो तो डॉक्टर से सलाह लेकर ही सेक्स करे।
  • अगर किसी भी तरह का वेजिनल रक्तस्त्राव हो तो सेक्स ना करे।

प्रेग्नेंसी में सेक्स से जुड़े मिथक

  • प्रेग्नेंसी में यदि किसी तरह की कोई कॉम्प्लिकेशन नही है तो गर्भ में पल रहे शिशु को कोई खतरा नही होता।
  • ना ही शिशु को कोई चोट लगती है ना शिशु को कुछ पता चलता है।
  • गर्भावस्था में ओरल सेक्स कर सकते है, बशर्ते की वेजिना में फूंक ना मारी जाए।
  • इससे ब्लड वेसल्स में हवा भरकर रुकावट पैदा करती है जिससे महिला या बच्चे की जान को खतरा हो सकता है।
ये भी पढ़े:  क्या होते है गर्भावस्था के शुरुआती लक्षण? उलटी कब्ज़ या कुछ और

प्रेग्नेंसी में सेक्स करने के फायदे

  • ब्लड प्रेशर को नार्मल रखता है।
  • कैलोरी बर्न करता है।
  • दर्द सहने की ताकत बढ़ती है।
  • डिलीवरी के बाद रिकवरी जल्दी होती है।

प्रेग्नेंसी में सेक्स करने का तरीका

1-लुब्रिकेंट का इस्तेमाल करे

सेक्स से पहले अच्छी मात्रा में लुब्रिकेंट का इस्तेमाल करे। क्योंकि हार्मोनल बदलावो के कारण योनि में शुष्कता हो सकती है जो सेक्स को दर्दभरा और असहज बना सकती है। पर केमिकल वाले और तीव्र खुशबू वाले लुब्रिकेंट ना इस्तेमाल करे। केवल वाटर बेस्ड लुब्रिकेंट ले।

2-आरामदायक पोजीशन उपयोग करना

प्रेग्नेंसी के समय सेक्स करने के सही तरीके के लिए निम्न पोजीशन अपनाई जा सकती है।

3-करवट लेकर अर्थात स्पूनिंग

आप करवट लेकर लेट जाएं, पार्टनर पीछे की तरफ से एंटर करे। इस प्रकार आपके पेट पर भी दबाव कम रहेगा और पेनिट्रेशन भी कम होगा। हमेशा बाई तरफ लेटे, इससे पोषक तत्व गर्भनाल के जरिये शिशु तक तेजी से पहुचेंगे। यह पोजीशन तीनो तिमाही में ठीक रहती है।

4-डॉगी स्टाइल

इस तरीके में आप दोनो हाथों तथा घुटनो के सहारे किसी एनिमल की तरह पोजीशन ले। पार्टनर को पीछे से पेनिट्रेट करने दे। ज्यादा सपोर्ट के लिए आप बेली के नीचे पिलो का सपोर्ट ले ले। एक बात का ध्यान रखे वेजिनल सेक्स से पहले एनाल सेक्स बिल्कुल ना करे। इससे योनि में संक्रमण हो सकता है।

5-क्लासिक मिशनरी

इस पोजीशन में मिशनरी पोजीशन( पति का ऊपर रहना) में सावधानीपूर्वक बदलाव लाया जाता है। पति इस तरीके से अपने शरीर को कंट्रोल करता है ताकि पत्नी के पेट पर दबाव ना पड़े। इस पोजीशन को पहली और दूसरी तिमाही में अपनाया जा सकता है।

ये भी पढ़े:  बांझपन के कारण, लक्षण, बांझपन उपचार और इलाज

6-सीज़र्स

इसमे दोनो पार्टनर कैंची की अवस्था मे एक दूसरे के सामने लेटते है। इस पोजीशन में अधिक प्यार व अंतरंगता महसूस होती है। यह पहली और तीसरी तिमाही के लिए सही अवस्था है।

7-बाहरी उपकरणों का प्रयोग

आप सेक्स करने से बचना चाहते है तो बाहरी उपकरणों जैसे वाइब्रेटर का इस्तेमाल करे। पर हर प्रयोग के बाद इसकी साफ सफाई का ध्यान रखे अन्यथा संक्रमण होने की संभावना बढ़ जाती है।

8-केवल फॉरप्ले करे

अगर आप सेक्स से बचना चाहते है तो एक बेहतरीन फोरप्ले आपको चरम सुख की अनुभूति दे सकता है। एक दूसरे को किस करे, मस्टरबेशन तथा दूसरी सेक्सुअल एक्टिविटी करे।







प्रेग्नेंसी में सेक्स करने का तरीका आप कोई भी अपनाए लेकिन आप सेक्स डॉक्टर से बात करके, पूरी जांच के बाद और अपनी कॉम्प्लिकेशन को ध्यान में रखते हुए ही करे।

Previous Post
pregnancy-photo
गर्भावस्था

क्या है बच्चा होने का सही तरीका?

Next Post
how-soon-can-you-get-pregnant-after-baby
घरेलु उपचार

कैसे करे सेक्स कि प्रेग्नेंट ना हो? क्या है प्रेगनेंसी रोकने के घरेलु उपचार?

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *