how to increase milk supply

गर्भावस्था के दूसरे महीने का आहार क्या खाए और क्या नहीं

बहुत सी महिलाएं अब तक भी नहीं जान पाती हैं कि वे गर्भवती हैं, लेकिन यदि आपको पता है की आप प्रेग्नेंट है तो आप को अपने आहार में अतिरिक्त सावधानी बरतनी चाहिए। गर्भावस्था का दूसरा महीना, गर्भावस्था के पहले महीने जितना ही महत्वपूर्ण है। गर्भावस्था के दूसरे महीने में पोषण का बहुत Important है । क्योंकि यह गर्भ में पल रहे शिशु के विकास के आवशयक है। इसी समय गर्भ में पल रहे शिशु की दिल की धड़कन विकसित होती है। गर्भावस्था के दूसरे महीने में अपने भोजन में विटामिन, प्रोटीन, Mineral और अन्य पोषक तत्वों को शामिल करना अनिवार्य है। गर्भावस्था के दूसरे महीने के आहार में आपको कुछ महत्वपूर्ण पोषक तत्वों को भी शामिल करना चाहिए तो आइये विस्तार से जानते है गर्भावस्था के दूसरे महीने के आहार के बारे में।

गर्भावस्था के दूसरे महीने के आहार में क्या खाए

  • फोलिक एसिड Folic Acid
  • आयरन Iron
  • कैल्शियम Calcium
  • प्रोटीन Protein

फोलिक एसिड – Folic Acid In Pregnancy

फोलिक एसिड गर्भ में पल रहे बच्चे को न्यूरल ट्यूब Defect से बचाने में मदद करता है। फोलिक एसिड neural tube के सामान्य विकास में मदत करता है। फोलिक एसिड की खुराक ना लेने पर समय से पहले बच्चे के जन्म का खतरा हो सकता है या फिर बच्चे में न्यूरल ट्यूब Defect विकसित होने का खतरा भी हो सकता है। फोलिक एसिड गर्भावस्था के पहले कुछ हफ्तों में लिया जाता है।
ये भी पढ़े:  कैसे बढ़ाए स्तन दूध उत्पादन | Maa Ka Doodh Badhane Ke Upay In Hindi

दूसरे महीने के गर्भावस्था आहार में पालक, अंडे, बीन्स और फोर्टिफाइड अनाज जैसे खाद्य पदार्थों को शामिल करे। हरी पत्तेदार सब्जियां, ड्राई फ्रूट्स (बादाम, अखरोट) और दालें भी फोलिक एसिड की भरपूर प्राकृतिक खुराक हैं।

ये भी पढ़े : छाती का दूध बढ़ाने के लिए घरेलू उपचार

आयरन – Iron In Pregnancy

गर्भावस्था के दूसरे महीने के दौरान गर्भ में पल रहे शिशु के लिए एक महिला को पहले से अधिक रक्त की आवश्यकता होती है। iron requirement in pregnancy बढ़ जाती है आयरन की कमी को पूरा करने के लिए iron diet लेना बहुत जरुरी है । आयरन की कमी को पूरा करने के लिए आप  गर्भावस्था के दूसरे महीने के आहार में यदि आप पर्यापत मात्रा में आयरन नहीं लेती है, तो आप हर समय थका हुआ महसूस कर सकती है। आयरन आपके शरीर को मॉर्निंग सिकनेस से भी लड़ने में मदत करता है।

भोजन के माध्यम से भी आप कुछ मात्रा में आयरन प्राप्त कर सकते हैं। फल, पालक, मेथी और चुकंदर जैसी सब्जिया, चिकन, मछली और सूखे मेवों में भी भरपूर मात्रा में आयरन होता है।

कैल्शियम

गर्भावस्था के दूसरे महीने के दौरान आपके शरीर को कैल्शियम सबसे अधिक आवश्यकता होती है जैसे जैसे गर्भ में पल रहे शिशु की हड्डियों का आकार बढ़ना शुरू होता है आपके शरीर को अधिक मात्रा में कैल्शियम की जरुरत पड़ती है। शरीर में कैल्शियम की कमी होने पर भ्रूण आपके शरीर में मौजूद कैल्शियम भंडार जैसे हड्डियों और दांतों से कैल्शियम निकालना शुरू कर देगा। इससे भविष्य में आपको ऑस्टियोपोरोसिस जैसी बीमारी हो सकती है। इसलिए गर्भावस्था में कैल्शियम रिच फ़ूड खाना बहुत जरूरी है । कैल्शियम युक्त फल और सब्जिया खाने से आपको बहुत फ़ायदा होगा । वैसे तो सबसे जयदा कैल्शियम दूध में पाया जाता है परन्तु बाकि चीजे भी 2 month pregnancy diet में शामिल करने से बहुत फ़ायदा होता है ।

ये भी पढ़े:  क्या खिलाए एक साल के बच्चे को ? जाने एक साल के बच्चे का भोजन

अपने कैल्शियम की कमी को पूरा करने के लिए हरी पत्तेदार सब्जियों और डेयरी उत्पादों को अपने दैनिक आहार में शामिल करे।

कैल्शियम के स्रोत – कैल्शियम रिच फ़ूड

  • दूध
  • डेयरी उत्पाद: पनीर,दही,घी आदि।
  • सब्जियां: हरी पत्तेदार सब्जियां जैसे शलजम, पालक, ओकरा, वसंत प्याज, गोभी आदि।
  • टोफू
  • बादाम

प्रोटीन के स्रोत –प्रोटीन रिच फ़ूड

गर्भावस्था की शुरुआत से ही प्रोटीन आवश्यक है। अधिकांश महिलाएं सोचती है कि गर्भावस्था की दूसरी और तीसरी तिमाही के दौरान प्रोटीन का सेवन जरुरी है लेकिन यह सोच गलत है। प्रोटीन आपके गर्भ में पल रहे बच्चे को पर्याप्त मात्रा में रक्त की आपूर्ति सुनिश्चित करता है और बच्चे की मांसपेशियों के सामान्य विकास में भी मदत करता है।

आप को अपनी गर्भावस्था के दूसरे महीने के आहार में निम्नलिखित चीजों शामिल करनी चाहिए।

  • फलियां जैसे किडनी बीन्स, व्हाइट बीन्स, ब्लैक बीन्स आदि
  • सोयाबीन
  • दाल
  • कम पारे वाली मछली और कॉटेज पनीर
  • अंडा और चिकन
  • साबुत अनाज से बने खाद्य पदार्थ
  • सूखे मेवे जैसे मूंगफली, पिस्ता, बादाम, काजू, अखरोट, आदि
  • सूरजमुखी के बीज, तिल के बीज, कद्दू के बीज
  •  दूध

 

0 Shares

Leave a comment