प्रेगनेंसी के तरीके

क्या है वीर्य रोकने के उपाय?

सेक्स या सम्भोग एक ऐसी क्रिया है जिससे ना केवल शारीरिक सुख बल्कि मानसिक और सामाजिक सुख भी जुड़ा है। इसी के द्वारा परिवार आगे बढ़ता है, एक समाज का निर्माण होता है। लेकिन केवल समाज के लिए सेक्स या सम्भोग नही किया जाता। हर जोड़ा इसका ज्यादा से ज्यादा समय तक आनन्द उठाना चाहता है, ऐसे में वीर्य का जल्दी गिरना इस आनंद में खलल डालता है। इससे ना केवल वैवाहिक जीवन नीरस हो जाता है बल्कि स्वयं पुरुष भी अवसाद से घिर जाता है। आइए आपको बताते है वीर्य रोकने के कुछ उपाय

वीर्य जल्दी गिरने के कारण

मनोवैज्ञानिक कारण

  • पहली बार या बहुत कम सेक्स करने का अनुभव
  • सेल्फ इमेज का डाउन होना
  • पहले से ही ज्यादा उत्तेजित हो जाना
  • ये सोचकर तनाव लेना कि पार्टनर को संतुष्ट कर पाऊंगा की नही
  • पार्टनर पसन्द ना होना, उसके प्रति प्यार की कमी

साइकोलोजिकल कारण

  • बचपन मे हुआ यौन शोषण
  • सेक्स को लेकर बचपन मे मन मे बैठाए गए नकारात्मक विचार
  • सेक्स का पूर्व में रहा दर्दभरा अनुभव
  • कोई देख ना ले इस डर से युवावस्था में जल्दबाजी में हस्तमैथुन करना
ये भी पढ़े:  कैसे करे अपने गर्भाशय की सफाई

मेडिकल कारण

  • मल्टीपल स्क्लेरोसिस
  • अधिक मात्रा में शराब, सिगरेट, तम्बाकू का सेवन
  • प्रोस्टेट कैंसर
  • डायबिटीज
  • गलत दवाओं का सेवन
  • इरेक्टाइल डिसफंक्शन
  • थाइरोइड

मनोवैज्ञानिक तथा साइकोलोजिकल कारणों को प्रैक्टिस और व्यवहारीक तरीको से दूर किया जा सकता है। लेकिन मेडिकल कारणों को सही उपचार से ही ठीक किया जा सकता है।

व्यवहार में प्रयोग की जाने वाली तकनीकें

वीर्य को रोकना

ये तकनीक आप हस्तमैथुन द्वारा स्वयं भी कर सकते है या अपने पार्टनर की मदद भी ले सकते है। जब आपका लिंग तनाव में आ जाएं तो आप हस्तमैथुन करना प्रारम्भ करें। जैसे ही आपको लगे की आप रस्खलित होने वाले है तुरन्त लगभग 20 से 30 सेकंड तक अपने रस्खलन अर्थात वीर्य को रोकने का प्रयास करे। शुरुआत में थोड़ी दिक्कत होगी पर धीरे धीरे प्रैक्टिस से आप ज्यादा देर तक वीर्य को रोक पाने में सफल हो पाएंगे।

लिंग पर दबाव डालना

इस तकनीक में आपको करना ये है कि जब भी आप रस्खलित होने वाले हो, अपने लिंग के सिरे को उंगलियों के दबाव से पकड़ ले। ऐसा आप हस्तमैथून या सेक्स के समय कर सकते है।

पेल्विक मसल्स एक्सरसाइज

सबसे पहले आप पता कैसे लगाएंगे की पेल्विक मसल्स कहाँ है। आप इसका टेस्ट भरे ब्लैडर के साथ कर सकते है, जब आप यूरिन पास करने जाए तो बीच मे यूरिन को रोक ले, ऐसा करने पर जिन मसल्स पर आपको दबाव महसूस हो वही पेल्विक फ्लोर मसल्स होती है। लेकिन भरे ब्लैडर के साथ केवल जांच करे एक्सरसाइज ना करे।

कैसे करे

1-क्लासिक और सिंपल

इसके लिए बिस्तर पर लेट जाएं, पेट की मसल्स को ढीला छोड़ दे। पेल्विक मसल्स को सिकोड़े अर्थात टाइट करें, 6 से 8 सेकंड तक रुके और ढीला छोड़ दे। ऐसा रोज़ कुछ मिनट तक करें।

ये भी पढ़े:  क्या घरेलु नुस्के है फायदेमंद गर्भपात से बचने के लिए?

2-पेल्विक टिल्ट्स

बिस्तर पर पीठ के बल लेट जाए, दोनो हाथों को रिलैक्स कर फैला ले। घुटनों को मोड़े और दोनो घुटनो को सटा ले, अब सांस छोड़ते हुए अपने एब्स को सिकोड़े। इसे 3 से 5 बार करें।

3-पुल इन कीगल

कूल्हे की मसल्स में तनाव पैदा करे और साथ साथ पैरो को आगे पीछे करें। 5 सेकंड रोके फिर छोड़ दे, ऐसा कम से कम 10 बार करें।

4-ब्रिजिंग

पीठ के बल लेटे ,हाथों को फैला ले घुटनों को मोड़ ले। अब हाथों, कंधों और पंजो के सहारे हिप और कमर को ऊपर उठाएं। पेल्विक मसल्स को टाइट करे, कुछ देर रुके अब मसल्स को ढीला छोड़कर वापस शुरुआत वाली पोजीशन में से जाए। इसे कम से कम 5 बार करें।

टॉपिकल क्रीम और स्प्रे का प्रयोग

इन क्रीम और स्प्रे का प्रयोग सेक्स से 10 मिनट पहले लिंग पर किया जाता है। ये लिंग की सेंसटिविटी को कम करके रस्खलन के टाइम को बढ़ा देती है। पर इनका प्रयोग डॉक्टर की सलाहनुसार ही करना चाहिए।






इन तकनीकों के अलावा सेक्स से करीब एक घण्टे पहले हस्तमैथून करना, फॉरप्ले करना जिसमे किसिंग, टचिंग की प्रमुखता हो, ऐसा करने से भी वीर्य जल्दी नही गिरता।

खानपान का रखे ध्यान

  • रोज कम से कम 11 मिलीग्राम जिंक का सेवन करे।
  • आयुर्वेदिक दवाइयां जैसे कौंच के बीज, यौवनामृत वटी वीर्य, कामिनी विद्रावड़ रस का सेवन करे।
  • मैग्नीशियम युक्त खाद्यपदार्थ जैसे एवाकाडो, डार्क चॉकलेट, बादाम पिस्ता, विभिन्न फलियां जैसे मसूर, मटर, सोयाबीन, सेम के अलावा सोया पनीर, कद्दू के बीज तथा साबुत अनाज का सेवन करे।
  • हरी सब्जियां, केला, फिश जैसे सालमन, मेकरेल का सेवन करे।
ये भी पढ़े:  1 से 3 महीने का गर्भपात के घरेलू टिप्स : सबसे सुरक्षित तरीके

वीर्य रोकने के घरेलू उपाय

  • साबुत सूखे धनिये को पीस कर उसमे मिश्री मिला ले, एक शीशी में भर कर रख ले।
  • सुबह शाम एक एक चम्मच मट्ठे के साथ ले, इससे जरूर फायदा होगा।
  • पिसी हुई अजवाइन और उसकी दुगुनी मात्रा में मिश्री मिलाकर सुबह शाम गुनगुने दूध के साथ ले।
  • 50 ग्राम मुलहठी, 100 ग्राम अश्वगंधा, 200 ग्राम शतावर को मिलाकर चूर्ण बना ले।
  • सुबह शाम एक चम्मच दूध के साथ ले।
  • 50 ग्राम अश्वगंधा, 50 ग्राम नागकेसर और अजवाइन को मिलाकर पीस ले, फिर छानकर शीशी में भर ले।
  • हल्के गर्म दूध में आधा चम्मच मिलाकर ले।
  • काली साबुत उड़द की दाल में गाय के घी में लहसुन का छोंक लगाकर खाए, ये बहुत ही चमत्कारिक प्रयोग है।

परहेज़ भी करें

  • गैस ,अपच से बचने के लिए भारी और तला हुआ कम से कम खाए।
  • जंक फूड, कैफीन,एल्कोहल, छोड़ दे। जरूरत से ज्यादा मीठा भी आपको नुकसान करेगा।

Leave a Comment