गर्भनिरोधक आयुर्वेदिक उपाय ayurvedic garbh nirodhak upay

गर्भ निरोधक के बहुत से तरीके उपलब्ध है जैसे कंडोम, डायफ्राम, इंट्रा यूटेराइन डिवाइस, गर्भ निरोधक इंजेक्शन व गर्भनिरोधक गोलियां आदि। लेकिन इन सब तरीको के या तो कुछ साइड इफ़ेक्ट है या इनका इस्तेमाल करने से सेक्स का सम्पूर्ण सुख नही मिल पाता। ऐसे में शादी शुदा जोड़ा कुछ ऐसे तरीको के बारे में सोचता है जिससे सम्पूर्ण रूप से सुख भी लिया जा सके और कोई साइड इफ़ेक्ट भी ना हो।
तो आइये आपको बताते है गर्भनिरोधक के आयुर्वेदिक उपाय

गर्भ गिराने के घरेलू नुस्खे

  • नीम
    बहुत पुराने समय से नीम को गर्भनिरोधक के रूप में प्रयोग किया जाता रहा है। आजकल मार्केट में नीम के तेल के कैप्सूल भी उपलब्ध है जिन्हें स्त्री पुरूष दोनो ले सकते है। साथ ही यदि सेक्स से पहले स्त्री नीम के तेल को योनि में लगा ले तो गर्भ ठहरने की संभावना कम हो जाती है।
  • हल्दी
    हल्दी की साबुत गांठ ले क्योंकि मार्किट की पिसी हल्दी में मिलावट हो सकती है। इस गांठ को पीस कर रख ले और सेक्स के तुरन्त बाद एक गिलास पानी से फांक ले। इसमे उपस्थित करक्यूमिन नाम का तत्व स्पर्म की गति को प्रभावित करता है।
  • प्याज का रस
    सम्भोग करते समय योनि में प्याज का रस लगाने से गर्भधारण की संभावना बहुत कम हो जाती है।
  • शहद
    सेक्स के दौरान यदि स्त्री अपनी योनि में शहद मल ले तो शुक्राणु की गतिशीलता पर प्रभाव पड़ता है जिससे गर्भधारण की संभावना कम हो जाती है।
  • तुलसी
    तुलसी के पत्ते ले, उन्हें अच्छे से धोकर पानी मे उबलने के लिए रख दे, 10 मिनट उबलने के बाद छानकर रख ले। इस काढ़े को माहवारी के दौरान, माहवारी समाप्त होने पर या सेक्स के तुरंत बाद पिये। इसके अलावा सम्भोग के तुरन्त बाद तुलसी की पत्तियों को चबा कर एक गिलास पानी पी ले।
ये भी पढ़े:  गर्भ न ठहरने के कारण - pregnancy na hone ki waja in hindi

गर्भ गिराने के अन्य उपाय - garbh girane ke upay

  • अरंडी
    अरंडी के बीज के अंदर एक सफेद रंग का छोटा बीज होता है उसे सेक्स करने के तुरन्त बाद से लेकर 72 घण्टे तक कभी भी ले सकते है। इसका असर एक महीने तक रहता है।
  • आँवला
    किसी भी पंसारी की दुकान से आँवला पाउडर, रसनजन्म और हरितकारी पाउडर ले। बराबर मात्रा में मिलाकर एक शीशी में भर कर रख ले। इसका सेवन पीरियड के चौथे दिन से लेकर सोलहवें दिन तक करे।
  • पुदीना
    पुदीना को पुराने समय से नपुंसकता का कारण माना जाता रहा है इसलिए बड़े बुजुर्ग पुरुषों को पुदीने की चटनी खाने से मना करते थे। गर्भ रोकने के लिए पुदीने को चटनी, चाय किसी भी रूप में लिया जा सकता है। सेक्स के तुरन्त बाद एक चम्मच सूखे हुए पुदीने पाउडर को एक गिलास पानी से ले ले।
  • केले की जड़
    केले का ऐसा पौधा ढूंढे जिसमे कोई फल ना आता हो, उसकी जड़ को अच्छे से सुखा कर पीस ले। इस चूर्ण को 4 से 5 ग्राम की मात्रा में भोजन में किसी भी प्रकार से ले सकते है।
  • चंपा के फूल
    चंपा के फूलों को लेकर सुखा लें लेकिन धूप ना सुखाए। छाव में सुखाकर पाउडर बना ले, इस चूर्ण का किसी भी प्रकार सेवन करें ये गर्भ रोकने में आपकी मदद करेगा। ऐसा करने से भी गर्भ ठहरने की संभावना नही रहती।
1 Shares

Leave a comment