प्रेगनेंसी में कब्ज

प्रेगनेंसी में कब्ज दूर करने लिए उपचार | Pregnancy Me Kabj Ke Upay in hindi

Contents hide

Pregnancy me kabj ke upay in hindi

प्रेगनेंसी में कब्ज  (constipation during pregnancy) एक आम समस्या है जो की गर्भावस्था के शुरुआती लक्षणों में से एक है। प्रेगनेंसी में कब्ज होने का मुख्य कारण शरीर में हार्मोन का बदलाव है। इस लेख में आज हम गर्भावस्था में कब्ज की समस्या से जुड़े विषयो पर बात करेंगे जैसे की गर्भावस्था में कब्ज के कारण, कब्ज रोकने के उपाय, गर्भावस्था में पेट साफ कैसे करे और कब्ज दूर करने के व्यायाम।




सूची

  • गर्भावस्था में कब्ज के लक्षण (garbhavastha me kabj ke lakshan)
  • गर्भावस्था में कब्ज के कारण (garbhavastha me kabj ke  karan)
  • क्या प्रेगनेंसी में कब्ज आम समस्या है?
  • प्रेगनेंसी में कब्ज होने पर क्या खाना चाहिए ?
  • प्रेगनेंसी में कब्ज दूर करने के लिए व्यायाम ? (kabj ke liye yoga)
  • प्रेगनेंसी में कब्ज दूर करने के लिए घरेलू उपाय
  • प्रेगनेंसी में कब्ज से कैसे बचे (garbhavastha me kabj se kaise bache )

गर्भावस्था में कब्ज के लक्षण

  • पेट के निचले हिस्से में दर्द
  • मुँह से बदबू आना
  • भूख ना लगना
  • पेट सख्त हो जाना
  • पेट फूलना

How To Remove Constipation In Hindi

ये भी पढ़े:  कैसे करे अपने गर्भाशय की सफाई

प्रेगनेंसी में कब्ज होने पर अक्सर पेट के निचले हिस्से में दर्द होता है। प्रेगनेंसी में पेट के निचले हिस्से में दर्द कॉन्स्टिपेशन की निशानी है।




मुँह से बदबू आना

यदि आप प्रेग्नेंट है और आपके मुँह से बदबू या गंध आती है तो यह कब्ज के लक्षण है।



भूख ना लगना

प्रेगनेंसी में आपको पहले से अधिक भूख लगती है यदि आपको पहले से अधिक भूख नहीं लग रही है तो यह भी कब्ज का लक्षण है।

पेट सख्त हो जाना

गर्भावस्था में पेट सख्त हो जाना कब्ज का लक्षण है। अक्सर यह देखा गया है की गर्भवती महिला को कब्ज होने पर पेट टाइट हो जाता है।

पेट फूलना

प्रेगनेंसी में कब्ज होने पर महिला का पेट फूल जाता है। एक दम से पेट फूलना भी कब्ज का लक्षण है।

Kabaj treatment in Hindi - Symptoms of constipation in Hindi

गर्भावस्था में कब्ज के कारण

सामन्य रूप से कब्ज होने के कई कारण हो सकते है पर गर्भावस्था में कब्ज होने के मुख्य कारण इस प्रकार है।

  • गर्भाशय पर दवाब पड़ने के कारण
  • आयरन पिल्स लेने के कारण
  • तनाव के कारण
  • कम पानी पीने के कारण
  • शरीर में फाइबर की कमी के कारण

गर्भाशय पर दवाब पड़ने के कारण

जैसे जैसे आपके गर्भ में पल रहा शिशु बढ़ता है वैसे ही आपके गर्भाशय का आकार भी बढ़ता है। गर्भाशय का आकार बढ़ने से महिला के पेट के निचले हिस्से पर दवाब बनता है जिससे की कब्ज की समस्या पैदा होती है।

आयरन पिल्स लेने के कारण

प्रेगनेंसी में खून की कमी ना हो इसीलिए गर्भवती महिलाओ को आयरन की गोलिया लेने की सलाह दी जाती है। पर अधिक मात्रा में आयरन पिल्स लेने से शरीर के पाचन तंत्र और पाचन प्रक्रिया पर प्रभाव पड़ता है। ऐसे में कब्ज जैसी समस्या होना आम है।

तनाव के कारण


कई बार तनाव के कारण भी आपको कब्ज हो जाती है। प्रेग्नेंट महिलाओ को तनाव नहीं लेना चाहिए इससे न केवल उनके शरीर पर बुरा असर पड़ता है बल्कि होने वाले शिशु की सेहत पर भी बुरा प्रभाव पड़ सकता है।

कम पानी पीने के कारण

प्रेगनेंसी में आपको पहले से अधिक पानी पीना चाहिए। कई बार महिलाए बार बार टॉयलेट जाने से बचने के कम पानी पीती है जो की शरीर से विषाक्त तत्वों को बाहर करने के लिए जरुरी है। शरीर में पर्याप्त मात्रा में पानी ना होने के कारण भी कब्ज हो सकती है।

शरीर में फाइबर की कमी के कारण

प्रेग्नेंट महिला को फाइबर से भरपूर भोजन करना चाहिए। शरीर में फाइबर की मात्रा कम होने पर कब्ज की समस्या हो सकती है। गर्भवती महिला को कब्ज से बचने के लिए अपने आहार में हरी पत्तेदार सब्जियां, दूध, दलिया इत्यादि शामिल करने चाहिए।

ये भी पढ़े:  क्या होते है गर्भ में लड़का होने के लक्षण | Baby boy symptoms in hindi

हर प्रेग्नेंट महिला में कब्ज (constipation during pregnancy) के कारण दूसरी महिला से बिलकुल भिन्न हो सकते है।  इन कारणों का ठीक से पता लगाना जरुरी है ताकि सही कारण का सही इलाज किया जा सके।



Kabaj problem in Hindi

क्या प्रेगनेंसी में कब्ज आम समस्या है?

Constipation-During-Pregnancy
Constipation-During-Pregnancy

जी हाँ,  प्रेगनेंसी में कब्ज की समस्या बहुत आम है। प्रेगनेंसी में लगभग हर महिला को पेट में कब्ज की समस्या से लड़ना पड़ता है। गर्भावस्था में कब्ज का मुख्य कारण है गर्भाशय पर पड़ने वाला दवाब। गर्भाशय का आकार बढ़ने से गर्भवती महिला के पेट के निचले हिस्से पर दवाब बनता है जिससे की कब्ज की समस्या पैदा होती है। वैसे तो कब्ज प्रॉब्लम होने पर आपकी बाकी शारीरिक गतिविधियों पर कोई खास फर्क नहीं पड़ता पर फिर अगर आप ठीक महसूस नहीं कर रही तो अपने डॉक्टर से बात कर सकते है।

Treatment of constipation in Hindi

प्रेगनेंसी में कब्ज दूर करने के लिए व्यायाम

  • सैर करे
  • योग और प्राणायाम करे
  • स्विमिंग

सैर करे

प्रेगनेंसी में सैर करने से कब्ज को दूर किया जा सकता है। एक प्रेग्नेंट महिला को खाना खाने के बाद कुछ देर पैदल चलना चाहिए ऐसा करने से खाना आसानी से पच जाता है और कब्ज की समस्या भी कम होती है।

योग और प्राणायाम करे (yoga for constipation in hindi)

एक प्रेग्नेंट महिला को संतुलित आहार लेने के साथ कुछ रेगुलर एक्सरसाइज भी करनी चाहिए इस से शरीर ठीक रहता है और होने वाला शिशु भी। इतना ही नहीं योग और प्राणायाम करने से कब्ज की समस्या से भी छुटकारा पाया जा सकता है।

स्विमिंग

प्रेगनेंसी में स्विमिंग एक अच्छी एवंम आसान रेगुलर एक्सरसाइज है जो न केवल आपको आनंद देती है बलिक आपको कब्ज जैसी समस्या से भी दूर रखती है। प्रेगनेंसी में स्विमिंग करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर ले।

प्रेगनेंसी में कब्ज होने पर क्या खाना चाहिए

  • ज्यादा से ज्यादा फल खाए
  • फाइबर से भरपूर आहार ले
  • भरपूर मात्रा में पानी पिए
  • दूध और दूध से बने उत्पाद खाये
Constipation-During-Pregnancy
Constipation-During-Pregnancy

ज्यादा से ज्यादा फल खाए

किसी भी गर्भवती महिला को अपने दैनिक आहार में ज्यादा से ज्यादा फल खाने चाहिए। फल आपको कब्ज की समस्या से बचाते है और शरीर को स्वस्थ भी रखते है। प्रेगनेंसी में आप सेब, अनार, खरबूजा जैसे फल खा सकती है

फाइबर से भरपूर आहार ले

फाइबर से भरपूर आहार आपको कब्ज से दूर रखने में सहायक है। प्रेगनेंसी में आपको फाइबर से भरपूर आहार जैसे की हरी पत्तेदार सब्जिया, गोभी, ब्रॉक्ली, गाजर आदि खाने चाहिए।

ये भी पढ़े:  गर्भावस्था में कब्ज के लिए घरेलु उपचार- Pregnancy me kabj ke upay in hindi

भरपूर मात्रा में पानी पिए


कब्ज से बचने के लिए किसी भी गर्भवती महिला को भरपूर मात्रा में पानी पीना चाहिए। दिनभर में कम से कम १० गिलास पानी पिए इससे कब्ज को दूर करने में काफी फायदा होगा।

दूध और दूध से बने उत्पाद खाये

दूध और दूध से बने उत्पाद भी प्रेगनेंसी में कब्ज दूर करने में काफी सहायक है। प्रेगनेंसी में कब्ज से बचने के लिए अपने रोज के खाने में दूध और दुह से बने उत्पाद शामिल करे जैसे की पनीर, घी, दही इत्यादि।

प्रेगनेंसी में कब्ज दूर करने के लिए घरेलू उपाय | Pregnancy Me Kabj ke Upay in Hindi

  • नींबू
  • किशमिश
  • ईसबगोल
  • पालक
  • अलसी के बीज
  • संतरे के जूस

नींबू


नीबू  गर्भावस्था में कब्ज (constipation during pregnancy) दूर करने में मदतगार है। नीबू में पाया जाने वाला सिट्रिक एसिड पेट साफ़ करता है। रोज सुबह एक गिलास गुनगुने पानी में एक नीबू कर रस निचोड़ कर पीने से प्रेगनेंसी में कब्ज से छुटकारा मिलता है।

किशमिश

प्रेगनेंसी में कब्ज की समस्या का रामबाण इलाज है। गर्भावस्था में किशमिश  बहुत ही फायदेमंद होता है अपनी रोज की डाइट में कुछ किशमिश के दाने जरूर सम्मिलित करे आप किशमिश को भिगो कर भी खा सकती है।

ईसबगोल (how to use isabgol for constipation in hindi)

प्रेगनेंसी में कब्ज (constipation during pregnancy) की समस्या दूर करने में ईसबगोल मदत करता है। इसबगोल के सेवन से आसानी से पेट साफ हो जाता है।

पालक

गर्भावस्था में पालक का नियमित सेवन कब्ज की समस्या दूर करता है।

संतरे के जूस

संतरे के जूस में भरपूर मात्रा में फाइबर और विटामिन सी होता है जो प्रेगनेंसी में कब्ज को दूर करता है।

प्रेगनेंसी में कब्ज से कैसे बचे

  • तनाव ना ले बल्कि खुश रहने का प्रयास करे।
  • ज्यादा से ज्यादा फल और पत्तेदार सब्जियां खाए।
  • भरपूर मात्रा में पानी पिए।
  • मैदा या मैदे से बनी चीजे न खाए।
  • तैलिये भोजन से बचे।
  • खाना खाने के बाद कुछ देर पैदल जरूर चले।
  • योग करे।
  • समय पर अपनी व बच्चे की जाँच करवाए।


क्या गर्भावस्था में कब्ज होना गंभीर हो सकता है?
अधिकांश महिलाओं को प्रेगनेंसी में कब्ज की समस्या हो जाती है जो की बहुत आम है। लेकिन यदि कब्ज की समस्या लगातार बनी रहे तो तुरंत इस विषय में अपने डॉक्टर से सलाह ले। कब्ज की समस्या से आपको बवासीर जैसी बीमारी भी हो सकती है।

क्या गर्भवस्था में होने वाली कब्ज का प्राकृतिक इलाज संभव है?
जी हाँ, गर्भवस्था में कब्ज की समस्या का प्राकृतिक रूप से इलाज पूरी तरह से संभव है।

0 Shares

Leave a comment