1464782547375

गर्भधारण से बचने के उपाय pregnancy rokne ke upay hindi me

नई नई शादी में भरपूर प्यार और रोमांस होता है ऐसे में शादीशुदा जोड़ा बच्चे की जिम्मेदारी लेने से बचता है। इसके अलावा और भी कारण हो सकते है जिससे कोई युगल बच्चा ना चाहता हो। विवाहित जोड़ा गर्भधारण से बचने के उपाय के बारे में बहुत मंथन करते है और कंफ्यूज हो जाते है। आइए आपको गर्भवती न होने के उपाय से अवगत कराते है।
प्रेग्नेंट ना होने 2 तरीके होते है

  • प्राकृतिक तरीका
  • अप्राकृतिक तरीका

प्राकृतिक तरीके - pregnancy se bachne ke upay

1- सेक्स पोजीशन

यदि स्त्री पुरुष दोनों खड़े होकर सेक्स करे या अनाल सेक्स करे तो माना जाता है कि प्रेग्नेंसी की संभावना कम होती है। सेक्स के तुरन्त बाद करें ये उपाय-
सेक्स के तुरन्त बाद खड़ी हो जाए, बाथरूम में योनि को भली प्रकार पानी से अंदर तक साफ करें और किसी गर्म चीज़ का सेवन करे।

2- कैलेंडर उपाय

  • अपनी माहवारी के अनुसार ओवुलेशन के दिनों में
  • सेक्स करने से बचे
  • यदि आपकी माहवारी निश्चित समय पर नही होती तो कम से कम 10 महीने तक माहवारी पर नजर रखे।
  • सबसे लंबी अवधि की माहवारी से 11 दिन और सबसे छोटी अवधि की माहवारी से 18 दिन घटा ले।
  • जो दिन बचे वो गर्भ धारण के लिए सबसे अनुकूल होते है।
  • ऐसे में उस समय सेक्स सम्बन्धो से परहेज करें।
ये भी पढ़े:  गर्भावस्था के टिप्स | Tips For Healthy Pregnancy

3- शारीरिक तापमान

हाई ओवुलेशन पीरियड में बॉडी टेम्परेचर आधा से एक डिग्री बढ़ जाता है, तो इस समय सेक्स करने से बचे।

4- विदड्रॉल विधि

इस तरीके में पुरुष रस्खलित होने से पहले ही सेक्स करना बंद कर देता है या किसी और तरीके से रस्खलित होता है।

प्रेग्नेंसी रोकने के घरेलू तरीके - pregnancy rokne ke gharelu upay

  1. सुबह उठकर बिना कुल्ला किये 2 लौंग चबा कर खाएं। ये तरीका आप सेक्स के तुरन्त बाद भी अपना सकती है। ऐसा करने से गर्भ नही ठहरता।
  2. सम्भोग के बाद 2 से 3 दिन तक कच्चा पपीता खाए इसमे पाया जाने वाला पेपैन तत्व जो प्रोजेस्ट्रोन के उत्पादन को रोक देता है और बिना प्रोजेस्ट्रोन के प्रेग्नेंसी नही हो सकती।
  3. साबुत सेंधा नमक का टुकड़ा लेकर तिल के तेल में डुबो ले। सेक्स से पहले और सेक्स के बाद भी इस टुकड़े को योनि में घुमाए जिससे तेल भली प्रकार पूरी योनि में लग जाए। इस प्रकार करने से स्पर्म गर्भाशय तक नही पहुँच पाता और पहले ही नष्ट हो जाता है।
  4. गुड़हल का फूल ले, उसे सुखाकर पाउडर बना ले माहवारी के समय इस पाउडर का इस्तेमाल करे। यदि आसपास गुड़हल का फूल ना हो तो ऑनलाइन गुड़हल का ड्राइड फूल मिलता है आप मंगा सकते है। ताजे फूलों का पेस्ट बनाकर भी प्रयोग में लाया जा सकता है।
  5. माहवारी समाप्त होने के 3 से 4 दिन तक लहसुन की साबुत कली छीलकर पानी से निगल ले। ऐसा करने से गर्भ नही ठहरेगा।
  6. पीरियड समाप्त होने के बाद लगभग 4 दिन तक तुलसी के पत्ते और गेरू को मिलाकर ठंडे पानी से सेवन करने से स्थायी बांझपन आ जाता है। ये सभी घरेलू तरीके पूरी तरह गर्भधारण से बचाव नही करते लेकिन कोई और समाधान ना होने पर इन्हें प्रयोग किया जा सकता है।
ये भी पढ़े:  गर्भावस्था में एक्यूप्रेशर Acupressure points for pregnancy
Previous Post
woman-holding-pregnancy-test
गर्भावस्था घरेलु उपचार

क्या है प्रेगनेंसी से बचने के उपाय?

Next Post
Abortion_1505718789312
गर्भावस्था

गर्भनिरोधक आयुर्वेदिक उपाय ayurvedic garbh nirodhak upay

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *