गर्भावस्था सावधानियों

भूलकर भी ना खाएं गर्भावस्था में भोजन की ये चीजे

गर्भवती महिला के लिए भोजन

गर्भावस्था किसी भी स्त्री के लिए एक बहुत हीं अलग और सुखद अनुभव हैं। इस अनुभव को और भी सुखद बनाता है गर्भावस्था में आहार । हर गर्भवती महिला चाहती है की जन्म के समय उनका बच्चा सेहतमंद हो और इसीलिए वो हर कोशिश करती है अच्छे से अच्छा आहार लेने की और कई बार अपने भोजन में वो नई चीज़ों को भी शामिल करती है। गर्भावस्था के दौरान खाने पीने को लेकर बहुत सी महिलायें कभी कभी दुविधा में होती है, क्या खाना चाहिए और क्या नहीं । गर्भवती महिला का भोजन ही उसके शिशु को सीधा पोषण देता है इसलिए हर गर्भवती स्त्री को संतुलित भोजन करना चाहिए लेकिन फिर भी ऐसी कुछ चीज़ें है जिन्हें एक गर्भवती स्त्री को नहीं खाना चाहिए । गर्भवती महिला की देखभाल वो खुद कहे ये ज्यादातर नहीं हो पाता है इसलिए साथ रहने वालो को भी उन सब चीजों पर ध्यान देना चाहिए ।




Food to Avoid During Pregnancy

3rd month of pregnancy diet

गर्भावस्था में क्या ना खाये

  • कच्चे अंडे या अधपका अंडा
  • पपीता
  • उच्च पारा स्तर/mercury level मछली
  • अंकुरित चीज़ें
  • बिना धुले फल और सब्ज़ियाँ
  • चाय और कॉफ़ी
  • शराब का सेवन
  • अनानास
  • आड़ू
  • इमली
ये भी पढ़े:  गर्भावस्था में फोलिक एसिड के फायदे

कच्चे अंडे या अधपका अंडा (Eggs in Pregnancy)

गर्भावस्था के दौरान कच्चे अंडे या आधा पका हुआ अण्डा जिसे हम सनी साइड उप (sunny side up )भी कहते हैं, खाने से बचे।अंडे में एक तरह का बैक्टीरिया होता हैं। जब हम उसे पकाते है तो वो बैक्टीरिया खतम हो जाता है। लेकिन अगर आप उसे पूरी तरह ना पकाए तो वो अंडे में हीं रहता है जो की इस अवस्था में ठीक नहीं और आपको इन्फ़ेक्शन हो सकता है।



पपीता (Papaya In Pregnancy)

बहुत सी महिलायें यह मानती है की गर्भावस्था में फल खाना लाभकारी है जो की बिलकुल ठीक है लेकिन फलो में भी एक ऐसा फल है जो गर्भावस्था के दौरान नहीं खाना चाहिए और वो है पपीता। पपीते में पापेन नाम का एंज़ायम होता है जो की पाचन क्रिया बढ़ाता है, जिससे गर्भाशय मे दबाव पैदा हो सकता है जिससे गर्भपात का ख़तरा भी हो सकता है।




गर्भावस्था में कब्ज

उच्च पारा स्तर/mercury level मछली

गर्भावस्था के दौरान उच्च स्तर वाली मछली खाने से बचना चाहिए। उच्च पारा स्तर आपके बच्चे के मस्तिष्क के विकास में बाधा बन सकता हैं। अगर आप मछली खाने का शौक़ रखती है तो कोई भी मछली खाने से पहले इस बात का ध्यान रखे।

उच्च पारा मछिलयो की लिस्ट में निम्न लिखित मछलिया शामिल हैं:

  • टूना
  • शार्क
  • स्वोर्डफ़िश

हालांकि सभी प्रकार की मछिलयो में उच्च पारा नहीं होता। गर्भावस्था के दौरान कम पारा स्तर वाली मछली का सेवन करना ठीक है और इन कम पारा स्तर वाली मछलियों को सप्ताह में 2 बार तक खाया जा सकता है। मछली में ओमेगा -3 फैटी एसिड होता है जो आपके बच्चे के लिए विकास के लिए जरुरी हैं।

ये भी पढ़े:  गर्भावस्था में क्या खाएं क्या नहीं - Pregnancy Diet Chart - Pregnant Women diet



अंकुरित चीज़ें (Sprouts In Pregnancy)

हम कितनी बार नाश्ते में अंकुरित दाल का सलाद खाते है जो की सेहत के लिए फ़ायदेमंद है। लेकिन गर्भावस्था के दौरान अंकुरित चीज़ें खाने से बचना चाहिए। ऐसे खाने में मोजूद बैक्टीरिया से फ़ूड पोईसोनिंग की समस्या हो सकती है और गर्भवती महिला को उलटी या दस्त हो सकते है।

बिना धुले फल और सब्ज़ियाँ (Food to Avoid During Pregnancy)

फल और सब्ज़ियाँ खाने से पहले हमेशा उन्हें अच्छे से धो ले। कभी भी बिना धुले फल और सब्ज़ियाँ ना खाए क्यूँकि इनमे टॉकसोप्लाज़मा नाम का बैक्टीरिया हो सकता है जो की आपके होने वाले शिशु के लिए नुकसान दायक हो सकता है।

चाय और कॉफ़ी (Tea and Coffee During Pregnancy)

चाय और कॉफ़ी हमारे रोज़ की दिनचर्या का एक हिस्सा है लेकिन गर्भावस्था के दौरान चाय और कॉफ़ी की मात्रा सीमित कर देनी चाहिए। चाय और कॉफ़ी में मोजूद उच्च कैफ़ीन आपके बच्चे की के दिल पर असर डाल सकती हैं।

शराब का सेवन (Alcohol during pregnancy)

शराब या किसी भी नशीली चीज़ों का सेवन किसी भी व्यक्ति के लिए हानिकारक होता है। गर्भवती महिलाओं को इनसे बिलकुल दूर रहना चाहिए। शराब या किसी भी नशीली चीज़ का सेवन आपके शिशु के शारीरिक और मानसिक विकास पर असर डाल सकता है।

अनानास

अनानास में ब्रोमेलैन नामक तत्व होता है जो गर्भवती महिला के गर्भाशय में संकुचन कर सकता है। अनानास के सेवन से गर्भपात हो सकता है। इसीलिए गर्भावस्था के शुरुआती हफ्तों में अनानास या अनानास के रस के सेवन ना करने की सलाह दी जाती है।

ये भी पढ़े:  पिल्स लेने के दौरान कैसे करे मैनेज वेट और डाइट
fruits to avoid during pregnancy

आड़ू

ऐसा माना जाता है कि आड़ू की प्रकृति “गर्म” होती हैं। गर्भावस्था में अधिक मात्रा में आड़ू खाने से गर्भवती महिला के शरीर में अत्यधिक गर्मी हो सकती है जिससे की आंतरिक रक्तस्राव हो सकता है, इसके परिणाम स्वरूप गर्भपात भी हो सकता है।

इमली

इमली विटामिन सी से भरपूर होती है। इमली को गर्भवती होने से बचने के लिए खाए जाने वाले फलों में से एक है। इसीलिए खासकर आपको गर्भावस्था की पहली तिमाही के दौरान बहुत अधिक इमली का सेवन न करने की सलाह भी दी जाती है।

गर्भावस्था के दौरान सावधानियाँ (Precautions For Pregnancy) आपकीं इस यात्रा को सुख़द (Healthy Pregnancy) बना सकती है और एक स्वस्थ शिशु का निर्माण कर सकती है। इसीलिए गर्भवती महिला का खान पान का ध्यान जरूर रखे और उसे सदा खुश रखे ।

Have a Happy and Healthy Pregnancy!!




टैग्स: , ,
Previous Post
kids disease
शिशु

बचपन की बीमारियाँ और उनके टीके

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *