frequent urination during pregnancy

गर्भावस्था में बार-बार पेशाब आना – Frequent Urination In Pregnancy

Frequent Urination In Women

क्या गर्भावस्था के दौरान आपकी बाथरूम की जाने के टाइम बढ गयी है। घर हो या ओफीस, दिन हो या रात यह समस्या आपको सता रही है। यह नॉर्मल है?  जी हां, गर्भावस्था में बार-बार पेशाब आना फर्स्ट और थर्ड ट्राइमेस्टर दोनों की एक विशेषता है।




Frequent urination causes

frequent urination in pregnancy.jpg

गर्भावस्था में बार-बार पेशाब आने का कारण

बढ़ी हुई मूत्र आवृत्ति महिलाओं में गर्भावस्था का एक प्रारंभिक लक्षण (early symptom of pregnancy)है। जो कि पूरे फर्स्ट ट्राइमेस्टर में आप महसूस करेंगी। यह हार्मोन प्रोजेस्टेरोन और ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन (HCG) की वृद्धि के कारण होता है। बढ़ते हार्मोन के अलावा, गर्भावस्था के दौरान आपके शरीर का फ्लुइड लेवल भी बढ़ना शुरू हो जाता है।  इसका मतलब है कि आपके गुर्दे (kidneys) को अतिरिक्त तरल पदार्थ को प्रवाहित करने के लिए अतिरिक्त मेहनत करनी होगी। आपके द्वारा जारी मूत्र की मात्रा में भी वृद्धि होगी।




सेकंड ट्राइमेस्टर वह खुशनुमा समय है जिसमें फर्स्ट ट्राइमेस्टर की काफी स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां समाप्त होने लगती है।  और आपका एनर्जी लेवल बढता है। सेकंड ट्राइमेस्टर में गर्भावस्था का यह लक्षण भी कम हो जाता है। सेकंड ट्राइमेस्टर में गर्भाशय की पोजीशन भी उंची होती है।  इससे आपके मूत्राशय पर कम दबाव पड़ता है।



थर्ड ट्राइमेस्टर में, आपके बच्चे के बढ़ते आकार का मतलब है कि वे आपके मूत्राशय पर और भी अधिक दबाव डाल रहा है।  और खासकर तब जब  बच्चे का सिर प्रसव के लिए तैयार पोजीशन में  हो जाता है। नतीजतन, आपकी मूत्र आवृत्ति बढेगी। आपको पेशाब करने के लिए रात के दौरान कई बार जागना पड़ सकता है।  आपको अतिरिक्त दबाव के कारण पेशाब करने की आवश्यकता में वृद्धि का अनुभव हो सकता है।

ये भी पढ़े:  गर्भावस्था में गैस होने के कारण और बचाव के उपाय



Frequent Urination At Night

उपाय

जब यह बात आती है कि आपको गर्भावस्था के दौरान कितनी बार पेशाब करना चाहिए, कोई सही या गलत राशि नहीं है।  इसका कोई उपाय नहीं है – फर्स्ट ट्राइमेस्टर के अन्त में इस मे धीरे-धीरे सुधार होगा – इसलिए अपने तरल पदार्थों को प्रतिबंधित करने का प्रयास न करें क्योंकि यह आपके और बढ़ते बच्चे के लिए ठीक से हाइड्रेटेड रहने के लिए महत्वपूर्ण है।  स्वस्थ गर्भावस्था बनाए रखने के लिए आपको हर दिन पर्याप्त मात्रा में पानी और तरल पदार्थ पीने चाहिए।  यदि आप नियमित रूप से कम पानी पीते हैं, तो आप डीहाइड्रेटेड हो सकते हैं।

बार-बार पेशाब आना एक ऐसा लक्षण है जिससे आपको बचने की बजाय प्रबंधन करने की आवश्यकता होती है।  सुनिश्चित करें कि बाथरूम आस-पास हैं, इसलिए असंयम (inconvenience) के जोखिम को कम करने के लिए आप बार बार पेशाब कर सकते हैं।

आप ऐसे पेय पदार्थों से परहेज करके अपनी बाथरूम की विजिट को कम कर सकते हैं, जिनमें हल्का मूत्रवर्धक प्रभाव (diuretic) होता है, जैसे कि कॉफी, चाय, सॉफ्ट ड्रिंक और अल्कोहल। आप दिन के दौरान बहुत सारे तरल पदार्थ पीकर बाथरूम में रात की विजिट कम कर सकते हैं।  यदि आपको मूत्र त्याग करते समय जलन, चुभन, बुखार या पीठ दर्द हैं, तो अपने डॉक्टर से बात करें।  ये एक इन्फेक्शन के संकेत हो सकते हैं, जिनका किसी भी कोम्प्लीकेशन से बचने के लिए जल्दी से इलाज किया जाना चाहिए।  इसके अलावा जब आप गर्भवती होती हैं, तो आपको खांसी या हंसी आने पर थोड़ा सा मूत्र रिसाव हो सकता है।  इस समस्या को मूत्र तनाव असंयमित (urinary incontinence ) कहा जाता है, और यह गर्भावस्था में बाद में और अधिक समस्या बन जाता है।

ये भी पढ़े:  क्या है प्रेगनेंसी से बचने के उपाय?

Frequent Urination During Pregnancy

आपकी पेल्वीस फ्लोर की मांसपेशियों को मजबूत करने से आपके बच्चे के जन्म के बाद भी इस समस्या को रोकने में मदद मिलेगी। फिजियोथेरेपिस्ट आमतौर पर प्रसवपूर्व कक्षाओं के दौरान पैल्विक फ्लोर अभ्यास सिखाता है। जीसे कीगल कहते हैं। आप पेंटी लाइनर (pad) का भी उपयोग कर सकती हैं। गर्भावस्था बहुत कष्टप्रद लक्षणों के साथ आ सकती है, लेकिन लगातार पेशाब करने की आवश्यकता एक अतिरिक्त असुविधाजनक होती है।

Leave a Comment