Constipation-During-Pregnancy

गर्भावस्था में क्या खाएं क्या नहीं – Pregnancy Diet Chart – Pregnant Women diet

What to eat during pregnancy

जब भी आप गर्भवती होती हैं तो आप हमेशा उलझन में रहती हैं कि क्या करें और क्या नहीं? गर्भावस्था के दौरान भोजन एक प्रमुख चिंता का विषय है। आप हमेशा यह सोचती रहती हैं कि गर्भावस्था के दौरान क्या खाएं और क्या नहीं? आपकी चिंताएँ वाजिब हैं। क्योंकि गर्भ में पल रहे बच्चे के विकास का एकमात्र स्रोत गर्भवती महिलाओं द्वारा लिया गया भोजन है।



यहाँ आप समझेंगे कि आपकी गर्भावस्था की प्रगति के साथ क्या खाया जाए। प्रत्येक ट्राइमेस्टर के दौरान आपको किस प्रकार का आहार लेना चाहिए।



sources-of-folate

फर्स्ट ट्राइमेस्टर के दौरान क्या खाएं - Pregnancy food chart

नीची दी गयी टेबल के अनुसार आप अलग अलग खाद्य श्रेणी को अपने दिनभर के भोजन में बाट सकती है।




खाद्य श्रेणी एक दिन में मात्रा की संख्या प्रकार
फल 3-4 ताजा, जमे हुए, रस,  एक सिट्रिक फल शामिल करें
सब्जियां 3-5 पकी हुई सब्जियाँ, कच्ची- कटी, सलाद के रूप में
दुध उत्पाद 3 दूध, दही, पनीर, चीज
प्रोटीन 2-3 मांस, मछली, दालें, सूखे मेवे
कार्बोहाइड्रेट 3 साबुत अनाज, आलू, आटा- रोटी

इसके साथ ही आपकी फर्स्ट ट्राइमेस्टर में आपके फोलिक एसिड और विटामिन डी की खुराक लेना आवश्यक है।

ये भी पढ़े:  गर्भावस्था का तीसरा महीना - Third month Of Pregnancy Tips

गर्भवती महिलाओं को अपने सामान्य भोजन सेवन के साथ पूरी गर्भावस्था के दौरान 2200 – 2900 per day total कैलोरी की आवश्यकता होती है। जो जटिल कार्बोहाइड्रेट के रूप में होना चाहिए। यह ऊर्जा की स्थिर मात्रा लंबे समय तक प्रदान करने में मदद करता है। जो मितली, उल्टी, थकान, चक्कर जैसे पहले फर्स्ट ट्राइमेस्टर के लक्षणों से निपटने के लिए आवश्यक ऊर्जा देता है।

तदुपरांत गर्भवती महिलाओं में उच्च फाइबर आहार शामिल करना महत्वपूर्ण है। जो गर्भावस्था की शुरुआत में होने वाले कब्ज से राहत देता है।

पर्याप्त मात्रा में पानी और फ्लुइड लेने चाहिए।




सेकंड ट्राइमेस्टर के दौरान क्या खाएं

सेकंड ट्राइमेस्टर में गर्भपात का जोखिम कम हो जाता है, और आपकी मितली, उल्टी, थकान, चक्कर दूर हो जाती है।

आइरन मांस, मुर्गी, समुद्री भोजन, फलियाँ और गहरे रंग के पत्ते वाले साग में पाया जाता है।
कैल्शियम डेयरी (दूध, दही, पनीर) और गहरे रंग के पत्ते वाले साग में पाया जाता है।
मैग्नीशियम नट और बीज, केले और दही में पाया जाता है।
ओमेगा -3 फैटी एसिड फेट युक्त मछली, चिया बीज, अलसी जैसे खाद्य पदार्थों में पाया।

इसके साथ ही आपकी फर्स्ट ट्राइमेस्टर में आपके फोलिक एसिड और विटामिन डी की खुराक लेना आवश्यक है।

थर्ड ट्राइमेस्टर के दौरान क्या खाएं

Vitamin-C-rich foods

थर्ड ट्राइमेस्टर में आपको अधिक दर्द और सूजन का अनुभव हो सकता है, क्योंकि आपके बच्चे का विकास बढ जाता है।  आप अपने प्रसव के बारे में चिंतित होना शुरू कर सकती है। आपका वजन बढ़ने और बढ़ते भ्रूण से पाचन तंत्र पर दबाव बढ़ता है। इस लिये कम मात्रा में अधिक बार विभाजित करके भोजन लेना चाहिए। आप Table 1 फॉलो कर सकती है।

ये भी पढ़े:  गर्भावस्था की घोषणा कब करे | When To Announce Pregnancy

आपके थर्ड ट्राइमेस्टर में विटामिन सी, फाइबर, विटामिन के और थायमिन (विटामिन बी 1) विशेष रूप से महत्वपूर्ण हैं।  यदि Table 1 के अनुसार विविध खाद्य श्रेणी को भोजन में लेगी तो आपको इन पोषक तत्वों की पर्याप्त मात्रा मिल जाएगी।  याद रखें कि आपको अपनी गर्भावस्था के इस चरण में एक दिन में अतिरिक्त 200 कैलोरी की आवश्यकता होती है।

गर्भावस्था के दौरान क्या नहीं खाना चाहिए - Foods to avoid during pregnancy

निम्नलिखित खाद्य पदार्थों को पूरे गर्भावस्था में लेने से बचना चाहिए

कैफीन को सीमित करना या बंद करना बेहतर है। वह कॉफी, चाय और वातित पेय ( soft drinks) में मौजूद  होता है।




सीफूड, कच्चे अधपके मांस, कच्चे अंडे, स्ट्रीट फूड, अनपश्चुराइज़्ड डेयरी सेवन नहीं करना चाहिए। आपको डिब्बाबंद या कैनड पदार्थ का सेवन नहीं करना चाहिए। आपको विटामिन ए की अधिक मात्रा लेने से बचना चाहिए। बासी भोजन नहीं लेना चाहिए। ताजा हाइजीनीक तरीके से पका भोजन लेना चाहिए।

Previous Post
सामान्य प्रसव के लक्षण
Uncategorized

क्या होते है नार्मल डिलीवरी के लक्षण – प्रसव पीड़ा (लेबर पेन) के 11 प्रमुख लक्षण

Next Post
frequent urination during pregnancy
गर्भावस्था

गर्भावस्था में बार-बार पेशाब आना – Frequent Urination In Pregnancy

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *